What is TDS In Hindi || TDS Kya hai ? || पूरी जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर आपका स्वागत है सीखो एकाउंटिंग में। 

आज हम इस आर्टिकल में आपको बतायेंगे TDS Kya hai ? (What Is TDS in Hindi) तथा यह क्यों काटा जाता है।

What is TDS In Hindi

What is TDS In Hindi || TDS Kya hai ? || what is the meaning of tds in hindi || क्यों टीडीएस काटा जाता है? || TDS Rule in hindi || TDS In Hindi

TDS Kya hai ?

सरकार के द्वारा दो प्रकार से टैक्स लिया जाता है।  पहला है डायरेक्ट टैक्स  यानी ( प्रत्यक्ष कर) तथा दूसरा है इनडायरेक्ट टैक्स यानी (अप्रत्यक्ष कर) टीडीएस एक प्रकार का इनडायरेक्ट टैक्स होता है। जो आपकी इनकम का कुछ भाग इनकम प्रदान करने वाली संस्था,कंपनी, और फर्म के द्वारा टीडीएस को काट कर सरकार के खाते में जमा कर दिया जाता है।

टीडीएस को हम इस उदहारण से समझा जा सकता है।

उदहारण 1. ABCD प्राइवेट लिमिटेड एक कंपनी है जिसने Mr. श्याम से 10 लाख रुपया Interest पर उधार लिया है i जिस पर ABCD प्राइवेट लिमिटेड हर महीने 10 हज़ार रुपए का interest देती है। तो इस कंडीशन में ABCD प्राइवेट लिमिटेड interest Amount में 10% का टीडीएस deduct करके MR श्याम को 9 हज़ार रुपया का भुक्तान करेगी। तथा 1 हज़ार रुपया सरकार के खाते में जमा किया जायेगा।

उदहारण 2. XYZ प्राइवेट लिमिटेड सम्पति के मालिक राम को प्रति माह 90 हज़ार रुपया कार्यालय के Rent का भुक्तान करता है।  जिस पर 10% टीडीएस काटना आवश्यक है।  इस कंडीशन में XYz प्राइवेट लिमिटेड 90 हज़ार रुपया का 10% 9,000/- रुपए का टीडीएस काटना होगा और सम्पति के मालिक राम को 81 हज़ार रुपए का भुक्तान करना होगा। इस प्रकार सम्पति के मालिक राम को कर कटौती के बाद 81 हज़ार रुपए शुद्ध आय प्राप्त होगी।

TDS का फुल फॉर्म क्या है ?

टीडीएस का फुल फॉर्म ” Tax Deducted at Source ” होता है। तथा इसको हिंदी में ” स्रोत पर कर कटौती ” के नाम से जाना जाता है।

TDS क्यों काटा जाता है ?

टीडीएस काटने का प्रमुख उद्देश्य यह है की सरकार चाहती है की लोग ईमानदारी से अपने कर का भुक्तान करें लेकिन बहुत सारे लोग टैक्स को को छुपा लेते है। जिसकी वजह से सरकार हर प्रकार की इनकम पर कुछ लिमिट अमाउंट पर टीडीएस काटने का प्रावधान है। जिससे लोग अपनी आय को छुपा नहीं पाते है तथा सरकार को indirect रूप में टैक्स का भुक्तान हो जाता है।

फॉर्म 26AS क्या है ?

फॉर्म 26 एक annual स्टेटमेंट होता है। जो एक फाइनेंसियल वर्ष में करदाता की पूर्ण जानकारी बताता है। कि आप ने पूरे साल में कितनी सेल कि है या आपका कहा-कहा टीडीएस या TCS Deduct हुआ है। यह आपके पैन कार्ड से लिंक होता है। आप इसे इनकम टैक्स कि वेबसाइट से आसानी से डाउनलोड कर सकते है।

फॉर्म 26AS में क्या-क्या आता है ?

  • किसी भी व्यक्ति,कंपनी या फर्म द्वारा काटे गए टीडीएस की जानकारी।
  • किसी भी व्यक्ति,कंपनी या फर्म द्वारा काटे गए TCS की जानकारी।
  • शेयर मार्किट और म्यूच्यूअल फण्ड से सम्बंधित जानकारी। 
  • आपके द्वारा जमा किये गए एडवांस टैक्स की जानकारी।  आपके द्वारा फाइल की गयी GST Return की जानकारी।

कितनी प्रकार की इनकम पर टीडीएस काटा जाता है ?

टीडीएस कई प्रकार की इनकम पर काटा जाता है जिसे हम सेक्शन wise समझ सकते है। 

सेक्शनकिस पर काटा जाता हैलिमिटरेट
192सैलरी ( Salary )Basic Exemption Limitटैक्स स्लैब के हिसाब से
192AEPF निकासी50,000/-10%
193Interest on Securities5,000/-10%
194डिविडेंड की इनकम पर5,000/-10%
194Aइंटरेस्ट From सेविंग अकाउंट, डिपाजिट ,पोस्ट ऑफिस,Co-operative सोसाइटीSenior Citizens 50,000/-   Other 40,000/-10%
194BLottery, Card games, Puzzles और अन्य गेम्स।10,000/-30%  
194BBहॉर्स रेस से आय10,000/-30%
194Cकांट्रेक्टर और sub कांट्रेक्टर की पेमेंट परSingle Transaction 30,000/- & Aggregate Transaction 1 Lakh1% or 2%
194Dinsurance कमीशन पर (Domestic Company)15,000/-10%
194Dinsurance कमीशन पर ( Other then Company)15,000/-5%
194DAIncome For the Insurance Payout1,00,000/-5%
194Eअनिवासी को भुगतान (खिलाड़ी/खेल संघ)`No Limit20%
194EEएनएसएस के तहत किसी व्यक्ति के खाते में जमा राशि का भुगतान2,500/-10%
194Fभारत के ट्रस्ट या मौटल फंड की इकाई की पुनर्खरीद का भुगतानNo limit20%  
194Gलॉटरी टिकटों की बिक्री पर कमीशन15,000/-5%
194Hकमीशन या दलाली15,000/-5%
194Iमशीन और संयंत्र का किराया2,40,000/-2%
194iभवन,फर्नीचर भूमि का किराया2,40,000/-10%
194IAकृषि भूमि के अलावा अन्य अचल संपत्ति लेनदेन50 Lakh1%
194iBएक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा किराए का भुगतान जो धारा 194i . के तहत कवर नहीं है50,000/- per Month5%
194ICसंयुक्त विकास के तहत भुगतानNo Limit10%
194Jपेशेवर सेवाएं, किसी निदेशक को पारिश्रमिक/शुल्क/कमीशन के रूप में भुगतान की गई कोई भी राशि, किसी भी व्यवसाय से संबंधित कोई गतिविधि नहीं करने के लिए भुगतान की गई कोई राशि, पेटेंट कॉपीराइट के बारे में कोई जानकारी साझा न करने के लिए भुगतान की गई कोई भी राशि30,000/-10%
194Jतकनीकी सेवा, रॉयल्टी के माध्यम से भुगतान की गई कोई भी राशि वितरण की बिक्री30,000/-2%
194Kम्यूचुअल फंड की बिक्री की इकाई से आयNo Limit10%
194LAकुछ अचल संपत्ति के अधिग्रहण के लिए मुआवजे के लिए किया गया भुगतान2,50,000/-10%
194LBअनिवासी भारतीयों को अवसंरचना बांड पर ब्याज का भुगतानNA5%
194LBAएक व्यावसायिक ट्रस्ट द्वारा अपने यूनिट धारकों के बीच वितरित कुछ आयNA10%
194Mअनुबंध, ब्रोकरेज, कमीशन या पेशेवर शुल्क के लिए भुगतान की गई राशि (Other then 194C.194H,194j)50,00,000/-5%
194Nयदि बैंक से एक निश्चित राशि से अधिक नकद निकासी होती है और आईटीआर फाइल किया जाता है1,00,00,000/-2%
194Nयदि बैंक से नकद निकासी होती है और किसी ने आईटीआर दाखिल नहीं किया है20,00,000/-2%
194Oई-कॉमर्स सेवा प्रदाताओं द्वारा अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से उत्पाद सेवा की बिक्री के लिए भुगतान की गई राशि5,00,000/-1%
194Qमाल की खरीद के लिए किए गए भुगतान50,00,000/-0.10%
194Sकिसी भी क्रिप्टो या अन्य आभासी संपत्ति के भुगतान पर टीडीएसNA1%
195एनआरआई . द्वारा किए गए निवेश पर आयNA20%
TDS Kya hai

FAQ :

Q : सैलरी से टैक्स कब काटा जाता है?

Ans : इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा बनाये गए नियम के आधार पर कर की राशि काटनी होती है। सैलरी पर टीडीएस कर्मचारी की साल भर की इनकम बेसिस लिमिट 2.5 लाख से ज्यादा होने पर मालिक द्वारा टीडीएस काट कर सरकार के खाते में जमा कर दिया जाता है।

Q : क्यों टीडीएस काटा जाता है?

Ans : टीडीएस काटने का प्रमुख उद्देश्य यह है की सरकार चाहती है की लोग ईमानदारी से अपने कर का भुक्तान करें लेकिन बहुत सारे लोग टैक्स को को छुपा लेते है। जिसकी वजह से सरकार हर प्रकार की इनकम पर कुछ लिमिट अमाउंट पर टीडीएस काटने का प्रावधान है। जिससे लोग अपनी आय को छुपा नहीं पाते है तथा सरकार को indirect रूप में टैक्स का भुक्तान हो जाता है।

Q ; बैंक टीडीएस कब काटता है ?

Ans : इनकम टैक्स के तहत बैंक Fixed Deposit,Saving Account के Interest पर टीडीएस काटता है। लेकिन इसके लिए कुछ लिमिट है। 60 साल की उम्र पर यह लिमिट 40 हज़ार रुपया है । तथा 60 साल के ऊपर उम्र वाले के लिए लिमिट 50 हज़ार रखी गयी है।

निष्कर्ष :

इस आर्टिकल में आपने जाना TDS kya hota hai ? तथा यह क्यों काटा जाता है ?

इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी चीज़ समझ न आ रही हो या आप हमसे कुछ पूछना चाहते है। तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। अगर आपको हमारा यह लेख पसंद हो, तो इससे अपने दोस्तों में भी शेयर करें।
आपको दिन शुभ रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.